Latest Post
Loading...

Ghar ki Wahshat se larzata hun magar jaane kyun


Ghar ki Wahshat se larzata hun magar jaane kyun
Sham hoti hai to ghar jaane ko ji chahata hai

Iftikhar Arif

घर की वहशत से लरजता हूँ मगर जाने क्यूं
शाम होती है तो घर जाने को जी चाहता है

इफ्तिख़ार आरिफ़

0 comments:

Post a Comment

 
Toggle Footer