Latest Post
Loading...

Wahi na milne ka gham aur wahi gila hoga Mein janta hun mujhe usne kya likha hoga


Wahi na milne ka gham aur wahi gila hoga
Mein janta hun mujhe usne kya likha hoga

Gali k mod se ghar tak andhera kyu h Nizam
Chiragh yaad ka usne bujha diya hoga

Sheen Kaaf Nizam

वही ना मिलने का ग़म और वही गिला होगा
मैं जानता हूँ मुझे उस ने क्या लिखा होगा

गली के मोड़ से घर तक अंधेरा क्यूं है निज़ाम
चिराग़ याद का उस ने बुझा दिया होगा

शीन काफ़ निज़ाम

0 comments:

Post a Comment

 
Toggle Footer